BestHindiHelp.Com

Best Hindi Blog Website for Blogging, SEO, Internet, Technology, Tech Tips, Job Exam Preparation, Exam Paper, Career, Job & More info

Technology

Ethernet क्या है इसके प्रकार, फायदे और काम कैसे करता है

Ethernet in Hindi

ईथरनेट क्या है ईथरनेट का काम क्या है इंटरनेट और ईथरनेट के बीच का अंतर

“इथरनेट” एक प्रौद्योगिकी है जो हमारे दैनिक डिजिटल जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुकी है। यह एक नेटवर्किंग प्रक्रिया है जो डेटा को एक जगह से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित करती है।

लोकल एरिया नेटवर्क्स (LANs), जो किसी भी स्थान पर कंप्यूटरों और अन्य उपकरणों को जोड़ने के लिए बनाए गए हैं, इथरनेट का बहुत उपयोग करते हैं।

Ethernet एक प्रकार का कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल है जो कई क्षेत्रीय नेटवर्क (LAN, MAN, WAN) में computers को जोड़ता है।

Ethernet एक Local Area Network (LAN) प्रौद्योगिकी है जिससे आप कई computers को एक दूसरे से जोड़ सकते हैं और एक स्थानीय क्षेत्रीय नेटवर्क बना सकते हैं। इस तकनीक में सूचना के प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए protocols लागू होते हैं।

1970 में एक्सेरॉक्स ने ईथरनेट बनाया था। उस समय, स्पीड़ 2 MB से 3 MB तक था। IEEE 802.3 है Ethernet का आम नाम।

Ethernet तकनीक में आप कनेक्शन के लिए तार का उपयोग करते हैं। शुरू में, Ethernet तकनीक में सिर्फ कॉप्टिकल कनेक्शन प्रयोग किए जाते थे। लेकिन आजकल twisted pair और fiber cables भी उपयोग में हैं।

Topology ईथरनेट LAN बनाने का एक तरीका है। जैसे बस, सितारा, रिंग और mesh topology

उस तकनीकी प्रक्रिया जिसमें डेटा बिजली के तारों के माध्यम से स्थानांतरित होता है, इस प्रौद्योगिकी का नाम इथरनेट है। इसने निजी और सार्वजनिक संस्थाओं, स्कूलों और कंपनियों को डेटा की सुरक्षितता सुनिश्चित करने और साझा करने की क्षमता प्रदान की है।

यह लेख आपको इथरनेट प्रोटोकॉल के बारे में अधिक जानकारी देगा, जिससे आप इस महत्वपूर्ण नेटवर्किंग मानक को और भी समझ सकेंगे. लेख में हम इथरनेट प्रोटोकॉल के इतिहास, विशेषताओं, और इसके उपयोग के बारे में भी चर्चा करेंगे।

ईथरनेट क्या है

What is Ethernet in Hindi

Ethernet In HindiEthernet एक कंप्यूटर नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो डेटा को एक से दूसरे कंप्यूटर या नेटवर्क डिवाइस के बीच संचारित करने के लिए बनाया गया है। यह तकनीकी रूप से एक लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) में सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह छोटे से क्षेत्र में कई कंप्यूटरों और डिवाइसेस को जोड़ सकता है।

एथरनेट डेटा पैकेट्स को वायर केबल्स के माध्यम से स्थानांतरित करता है। इस प्रोटोकॉल में विभिन्न स्पीडें हो सकती हैं, जो नेटवर्क की आवश्यकताओं पर निर्भर करती हैं, जैसे 10 Mbps, 100 Mbps और 1 Gbps।

एथरनेट द्वारा संचारित किए जाने वाले डेटा पैकेट्स को “फ्रेम” कहा जाता है, जो नेटवर्क पर कार्रवाई के लिए जानकारी और मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। विभिन्न डिवाइसेस के बीच संचार को सरल और तेज बनाए रखना एथरनेट का मुख्य लक्ष्य है, जिससे नेटवर्क का प्रबंधन और उपयोगकर्ताओं के लिए आसान होता है।

ईथरनेट की परिभाषा

Definition of Ethernet in Hindi

Ethernet एक कंप्यूटर नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो डेटा को कई कंप्यूटरों और नेटवर्क डिवाइसेस के बीच संचारित करता है। जब कई कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइसेस एक ही स्थान पर होते हैं और एक साझा नेटवर्क में जोड़े जाते हैं, तो ऐथरनेट का उपयोग लोकल एरिया नेटवर्क्स (LANs) में किया जाता है।

Ethernet डेटा को पैकेट्स में विभाजित करके भेजता है और एक स्थानांतरण प्रणाली का उपयोग करके इन पैकेट्स को नेटवर्क के अन्य सिस्टमों तक पहुंचाता है। मुख्य लक्ष्य तेज और सुरक्षित डेटा संचार है ताकि उपयोगकर्ता अपने नेटवर्क से संसाधनों और अन्य उपयोगकर्ताओं के साथ संवाद कर सकें।

IEEE (Institute of Electrical and Electronics Engineers) द्वारा मान्यता प्राप्त विभिन्न एथरनेट स्टैंडर्ड्स में से कुछ सबसे महत्वपूर्ण हैं। एथरनेट को समर्थित करने वाले कई वेरिएंट्स हैं, जो अलग-अलग स्पीड, केबल प्रकार, और तकनीकी मानकों पर निर्भर करते हैं।

ईथरनेट का इतिहास

History of Ethernet in Hindi

Ethernet का इतिहास बहुत पुराना है और इसका विकास नेटवर्किंग क्षेत्र में महत्वपूर्ण बदलावों से जुड़ा है। 1970 के दशक में, रॉबर्ट मेटकाल्फ, नॉर्मन आबर्टन, चार्ल्स ट्विचेल और डेविड बोग्ग्स ने एक्सरॉन पार्क में बेल लैबरेटरी में यह तकनीकी प्रणाली बनाई।

1980 में पहला एथरनेट स्टैंडर्ड 10BASE5, जो 10 मेगाबिट प्रति सेकंड की डेटा रेट और थिक केबलिंग का उपयोग करता था, बनाया गया था। बाद में, 10BASE2, 10BASE-T और 100BASE-TX जैसे कई स्टैंडर्ड्स विकसित हुए, जो अधिक गति और कई केबलिंग विकल्पों के साथ आए।

1990 के दशक में एथरनेट ने स्विचिंग तकनीक का उपयोग करके नेटवर्किंग को और भी बेहतर बनाया, जिससे डेटा पैकेट्स को तेजी से और बेहतर ढंग से संचारित किया जा सकता था। आज, एथरनेट नेटवर्किंग गति, सुरक्षा और व्यापक उपयोगकर्ता आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

ईथरनेट कैसे काम करता है

EtherNet एक कॉलीजन-डेटेक्शन तंत्र है, जिसमें कई नेटवर्क डिवाइसेस और कंप्यूटर एक ही नेटवर्क को साझा करते हैं और डेटा को संचारित करने के लिए एक साझा माध्यम का उपयोग करते हैं। यहां कुछ प्रमुख चरण हैं जो एथरनेट का काम चलाता है:

फ्रेमिंग वह है जब कंप्यूटर नेटवर्क पर डेटा भेजता है, जिसमें डेटा पैकेट को सही ढंग से संरचित किया जाता है ताकि उसे नेटवर्क पर सही ढंग से पहुंचा जा सके।

डेटा पैकेट को एनकैप्सुलेट करने के बाद, इसे नेटवर्क प्रोटोकॉल और अन्य मेटा-डेटा से ढकाया जाता है।

कॉलीजन-डेटेक्शन का एल्गोरिदम एथरनेट में उपयोगकर्ताओं को नेटवर्क पर कोई डेटा पथ बचाने के लिए प्रतिस्पर्धा करता है। यहां, एक कंप्यूटर डेटा को नेटवर्क पर भेजने से पहले एक संकेत या संकेत भेजता है. यदि कोई कॉलीजन होता है, तो कंप्यूटरों को एक संकेत मिलता है और वे डेटा को पुनर्निर्देशित करते हैं।

विशिष्ट नेटवर्क प्रोटोकॉल्स के अनुसार, डेटा नेटवर्क पर पहुंचने पर सही उपयोगकर्ता या डिवाइस तक पहुंचाया जाता है।

संबंधित डेटा को सुरक्षित रूप से और तेजी से संचारित करने से नेटवर्क एक अच्छी दर से काम कर सकता है, इसलिए एथरनेट का इस प्रकार का काम का तंत्र महत्वपूर्ण है।

ईथरनेट के लिए आवश्यक कॉम्पोनेन्ट

Essential components for Ethernet in Hindi

एथरनेट नेटवर्क के लिए कई आवश्यक कॉम्पोनेन्ट्स होते हैं, जो सही तरीके से संचारित करने और नेटवर्क को सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। यहां एक कुछ मुख्य कॉम्पोनेन्ट्स हैं-

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड (Network Interface Card – NIC)

यह कॉम्प्यूटर को नेटवर्क से जोड़ता है। यह नेटवर्क केबल को स्थानांतरित करने और डेटा पैकेट्स को बाहर निकालने का कार्य करता है।

स्विच (Switch)

स्विच नेटवर्क में कनेक्ट किए गए कई डिवाइसेस को संचारित करता है। यह नेटवर्क ट्रैफिक को नियंत्रित करता है और कॉम्प्यूटर के बीच कॉलीजन को रोकता है।

केबलिंग (Cabling)

डेटा को एथरनेट नेटवर्क में स्थानांतरित करने के लिए ऑप्टिकल फाइबर केबल्स या ट्विस्टेड पेयर (Twisted Pair) केबलिंग उपयोग की जाती है।

हब (Hub)

एक हब कई नेटवर्क उपकरणों को एक साथ जोड़ सकता है। हालाँकि, स्विच कम कॉलीजन पैदा करते हैं और नेटवर्क ट्रैफिक को बेहतर ढंग से व्यवस्थित करते हैं, इसलिए स्विच ने बड़े पैमाने पर हब को प्रमाणित किया है।

राउटर (Router)

राउटर नेटवर्क में डेटा पैकेट्स को स्थानांतरित करने और कई नेटवर्क्स को एक साथ जोड़ने का काम करता है।

एथरनेट केबल्स और कनेक्टर्स

नेटवर्क इंफ्रास्ट्रक्चर, जो डेटा को सुरक्षित और सही तरीके से संचारित करने में मदद करता है, में एथरनेट केबल्स और कनेक्टर्स शामिल हैं।

इंटीग्रेशन इन कॉम्पोनेन्ट्स को नेटवर्क की स्थिति और प्रदर्शन को बनाए रखने में मदद करता है।

ईथरनेट के प्रकार

Type of Ethernet in Hindi

Ethernet के कई प्रकार हैं, जो विभिन्न गतियों, केबलिंग और तकनीकी पैरामीटर्स पर आधारित हैं। प्रमुख एथरनेट प्रकार निम्नलिखित हैं-

10BASE-T: यह 10 मेगाबिट प्रति सेकंड की गति वाले ट्विस्टेड पेयर केबल्स वाले पहले और सबसे लोकप्रिय एथरनेट स्टैंडर्ड है।

100BASE-TX तकनीक: यह 100 मेगाबिट प्रति सेकंड की गति और ट्विस्टेड पेयर केबल्स का उपयोग करता है, लेकिन यह बेहतर गुणवत्ता और तेजी देता है।

1000BASE-T, या Gigabit Ethernet: इसमें 1000 मेगाबिट प्रति सेकंड की गति है और यह ट्विस्टेड पेयर केबल्स का उपयोग करता है। गिगाबिट एथरनेट बड़े नेटवर्क्स और उच्च गति पर अच्छा काम करता है।

10GBASE-T (10Gigabit Ethernet): यह 10 गिगाबिट प्रति सेकंड की गति और ट्विस्टेड पेयर केबल्स का उपयोग करता है, लेकिन यह अधिक बड़े नेटवर्क्स के लिए बनाया गया है।

ऑप्टिकल एथरनेट, या ऑप्टिकल नेटवर्किंग: बड़ी दूरी के नेटवर्क्स के लिए इसमें ऑप्टिकल फाइबर केबल्स का उपयोग किया जाता है। इसमें अधिक सुरक्षा और गति है।

Wi-Fi एथरनेट: यह एक रेडियो सिग्नल का उपयोग करके डेटा को केबल से नहीं भेजता है। यह वायरलेस नेटवर्क्स में फायदेमंद है।

विभिन्न आवश्यकताओं और उपयोग स्थितियों के आधार पर, इन प्रकारों में एथरनेट के विभिन्न मानकों और प्रकार चुने जा सकते हैं।

ईथरनेट के फायदे

Advantage of Ethernet in Hindi

Advantage of Ethernet in HindiEthernet एक लोकल क्षेत्रीय नेटवर्किंग प्रोटोकॉल की तरह काम करता है क्योंकि इसके कई लाभ हैं। ये कुछ महत्वपूर्ण लाभ हैं:

तेज डेटा संचार और स्थिरता में एथरनेट नेटवर्क अच्छे हैं। गिगाबिट एथरनेट जैसे कई स्टैंडर्ड्स तेज डेटा प्रबंधन की सुविधा देते हैं।

Ethernet की स्विचिंग तकनीक से कॉलीजन कम होती है, जिससे नेटवर्क पर डेटा का प्रभावी प्रबंधन और तेजी से संचार संभव है।

एथरनेट नेटवर्क को आसानी से स्केल किया जा सकता है, जिससे बड़े नेटवर्क्स का समर्थन किया जा सकता है और नए डिवाइसेस को जोड़ा जा सकता है।

एथरनेट केबलिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर को स्थापित करना और बनाए रखना आम तौर पर खर्च कम करता है। इसके लिए उपयोग किए जाने वाले केबल्स भी महंगे नहीं हैं।

EtherNet नेटवर्क स्थापित और संचालित करना आसान है। स्विचिंग तकनीक नेटवर्क का रख-रखाव और प्रबंधन आसान बनाता है।

विभिन्न केबलिंग प्रकार का समर्थन (समर्थन विभिन्न केबलिंग प्रकार के लिए): विभिन्न नेटवर्क आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए EtherNet ऑप्टिकल फाइबर केबल्स और ट्विस्टेड पेयर केबल्स का समर्थन करता है।

व्यवसायिक और घरेलू उपयोग के लिए उपलब्धता (उपलब्धता व्यवसायिक और घरेलू उपयोग के लिए): व्यवसायिक उपयोग के साथ-साथ घरेलू उपयोग में भी एथरनेट नेटवर्क फायदेमंद है, जिससे उपयोगकर्ता आसानी से घर से जुड़ सकते हैं।

इन लाभों के कारण, एथरनेट नेटवर्किंग व्यावसायिक और व्यक्तिगत स्तर पर एक लोकप्रिय और सफल तकनीक बन गया है।

ईथरनेट के नुकसान

Disadvantage of Ethernet in Hindi

यद्यपि एथरनेट नेटवर्क से कई लाभ मिलते हैं, इसके कुछ नुकसान भी हैं जो ध्यान में रखना चाहिए:

जब कई कंप्यूटर एक साथ डेटा भेजने की कोशिश करते हैं, तो एथरनेट नेटवर्क्स में कॉलीजन हो सकती है, जिससे तकनीकी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

बड़े नेटवर्क्स को स्थापित करना कठिन हो सकता है क्योंकि एथरनेट केबल्स की दूरी में सीमाएं हो सकती हैं।

EtherNet डेटा पैकेट्स को खुले रूप से संचारित करता है, जिससे सुरक्षा कुछ मुश्किल हो सकती है।

केबलिंग से प्रभावित होना (केबलिंग से प्रभावित होना): Ethernet केबलिंग में खराबी होने पर नेटवर्क की कार्यक्षमता में कमी आ सकती है और केबल ट्रबलशूटिंग में समय लग सकता है।

वायरलेस एथरनेट नेटवर्क्स को सुरक्षित रखना मुश्किल हो सकता है क्योंकि वे डेटा को रेडियो सिग्नल के माध्यम से भेजते हैं जो किसी भी समय अनधिकृत हो सकता है।

एथरनेट पर भेजे जा रहे डेटा पैकेट्स को गुमनाम रूप से भेजा जाता है, जिससे मानकों को मुश्किल बनाना और सुरक्षा को कमजोर करना संभव है।

संगठन और उपयोगकर्ता को एथरनेट नेटवर्क को उचित सुरक्षा के साथ प्रबंधित करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इन नुकसानों का ध्यान रखा जाना चाहिए।

इंटरनेट और ईथरनेट में अंतर

Difference between Internet and Ethernet In Hindi

इंटरनेट और एथरनेट दोनों ही नेटवर्किंग तकनीक हैं, इनमें कुछ महत्वपूर्ण अंतर हैं-

विभिन्न नेटवर्क्स को जोड़कर एक संचार इंफ्रास्ट्रक्चर को इंटरनेट कहा जाता है, जो एक व्यापक और अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क है। ताकि लोग डेटा, जानकारी और सेवाएं साझा कर सकें, यह लाखों कंप्यूटर्स और नेटवर्क्स को दुनिया भर में जोड़ता है। जबकि एथरनेट एक लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) प्रोटोकॉल है जो कंप्यूटरों और नेटवर्क डिवाइसेस को एक साझा माध्यम का उपयोग करके जोड़ता है। यह मुख्य रूप से एक ही जमीन या स्थान पर स्थित भीड़ नेटवर्क्स में काम आता है।

लाखों से भी ज्यादा डेवाइसेस और कंप्यूटर्स को एकत्रित करने के लिए विश्व भर में बहुत से नेटवर्क्स को इंटरनेट ने जोड़ा है। जबकि एथरनेट बड़े नेटवर्क्स (LANs) के लिए अधिक उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह लोकल एरिया नेटवर्क्स (LANs) के लिए है और इसमें सीमित दूरी की सीमा हो सकती है।

विभिन्न संगठनों, व्यक्तियों और उपकरणों के बीच विश्वव्यापी डेटा संचार के लिए इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। यह एथरनेट लोकल एरिया नेटवर्क्स (LANs) में इंट्रानेट कनेक्टिविटी प्रदान करता है, जिसमें कंप्यूटर्स और नेटवर्क डिवाइसेस एक साझा माध्यम का उपयोग करके जुड़ते हैं, साथ ही कई सेवाएं भी प्रदान करता है, जैसे ईमेल, वेब ब्राउज़िंग, ऑनलाइन सहयोग, आदि।

इंटरनेट में कई प्रोटोकॉल्स हैं, जैसे TCP/IP, HTTP, FTP, DNS, आदि। जबकि एथरनेट प्रोटोकॉल इंजीनियरिंग कंपनी (IEEE) द्वारा मान्यता प्राप्त है और कई उप-प्रोटोकॉल्स में से एक हो सकता है, जैसे Ethernet II और IEEE 802.3।

इसलिए, एथरनेट एक स्थानीय नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो कंप्यूटरों और नेटवर्क डिवाइसेस को जोड़ता है, जबकि इंटरनेट एक बहुतमुखी और विश्वव्यापी नेटवर्क है।

ईथरनेट केबल क्या है

What is Ethernet Cable in Hindi

डेटा को संचारित करने के लिए एथरनेट केबल, खासकर एथरनेट नेटवर्क्स में, इस्तेमाल किया जाता है। यह केबल डेटा पैकेट्स को कंप्यूटर, नेटवर्क इंटरफेस कार्ड, स्विच, हब, राउटर और अन्य नेटवर्क उपकरणों से कनेक्ट करने में काम करता है। विभिन्न प्रकार के एथरनेट केबल्स में से, ट्विस्टेड पेयर (Twisted Pair) केबल्स सबसे आम हैं और घरेलू और कार्यालयों में प्रयोग किए जाते हैं। इन्टरफेरेंस और इंटरनेट रेडियो फ्रीक्वेंसी (RFI) को कम करने के लिए, इन केबल्स में दो आधिकारिक तंतुओं को एक-दूसरे के आस-पास ट्विस्ट किया जाता है।

इन केबल्स को कई श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है, जैसे Cat5, Cat6, Cat6a, और Cat7, जो उनकी गति, बैंडविड्थ और अन्य तकनीकी विशेषताओं को बताते हैं।

इन केबल्स में RJ-45 कनेक्टर हैं, जो इन्टरफेस कार्ड्स, स्विचेस, हब्स और अन्य नेटवर्क उपकरणों से कनेक्ट करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। ताकि डेटा को सही तरह से संचारित किया जा सके, यह कनेक्टर दो स्ट्रेइट बैरेल्ड पिन्स और दो अनपिन्ड पिन्स का एक ग्रुप समर्थित करता है।

निष्कर्ष:

जैसा कि हम जानते हैं, एथरनेट एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो एक साझा माध्यम का उपयोग करके कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइसेस को जोड़ता है। इंटरनेट के साथ जुड़कर, यह लोकल एरिया नेटवर्क्स (LANs) में आम है। विभिन्न प्रकार और स्टैंडर्ड्स उपयोगकर्ताओं को उनकी अलग-अलग आवश्यकताओं के अनुसार चुनने की स्वतंत्रता देते हैं। तेजी, स्थिरता, और सहजता के साथ EtherNet ने नेटवर्किंग को आसान बनाया है, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं, जिन्हें सुरक्षित रूप से नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है। आधुनिक संचार और नेटवर्किंग की दुनिया में एथरनेट एक विशिष्ट स्थान रखता है और हमारी डिजिटल पारस्परिकता का एक अभिन्न अंग है।

Share करे

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *